.
Skip to content

शेर भी दोहे भी,

Dr. Mahender Singh

Dr. Mahender Singh

शेर

October 25, 2017

**मुझे न भड़काओ यारों,
मैं धधकती हुई ज्वाला हूँ,
हाथ सेकने को नहीं,
हीरा बनाती हूँ रुपांतरण मेरी भाषा,
.
भीड़ तेरी शक्ल ना सुरत,
काम करती है तू औंदा(उलटे)
जिस पर हों जाएं फिदा,
फिर कौन सुहाखा(नेत्र-युक्त)कौन अंधा,
.
नाम पर न जाइये नाम है भरपूर,
खण्डित को कहिये अखंड,
नाम पूर्ण न होय ,
पूर्ण भी बँटते देखे,
पूरी भी खानी पड़ती तरोड़-मरोड़ कर,
.
कारण कारक एक है,दोनों ही फल देते समान,
कोई कारण खोज आगे बढ़े,
कोई कारक बन मंजिल पाये,
.
अध्यात्मिकता एक रोग है,
जिसे लगे ..बढ़ता ही जाये,
लोगों को पागल मालूम पड़े,
उसे परमसुख मिल जाए,
.
मैं तुच्छ हु ..तुम सबकुछ,
तुम विराट ..मुझे तेरी पनाह,
जित् देखूँ उत तू ही तू,
महेन्द्र भी गया समां,

डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,
रेवाड़ी(हरियाणा).

Author
Dr. Mahender Singh
(आयुर्वेदाचार्य) शौक कविता, व्यंग्य, शेर, हास्य, आलोचक लेख लिखना,अध्यात्म की ओर !
Recommended Posts
"अब तो मैं.... डरता हूँ" (शेर) 1. मैं कहाँ अदावत से डरता हूँ मैं तो बस ज़िलालत से डरता हूँ इतना लूटा गया हैं मुझे... Read more
मेरी विवशता
जब भी मैं किसी अस्पताल में जाता हूँ, तो खुद को पूर्ण विवश पाता हूँ, इलाज के नाम पर करते हैं ढोंग निर्ममता के नाम... Read more
मैं जो हूँ वो हूँ जो नही हूँ वो होने का मुझसे दिखावा भी नही हो सकता कभी कभी अपनी इसी आदत के कारण मुश्किलो... Read more
जुबाँ पर जो है दिल में वह नाम लिखती हूँ
जुबां पर जो है दिल में वह नाम लिखती हूं हो जाए मैहर जिंदगी तमाम लिखती हूं निकलते है मेरे दिल से ही जज़्बात सभी... Read more