.
Skip to content

कविता :– आओ …..हम तुम प्यार करें !!

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

July 10, 2016

आओ….हम तुम प्यार करें !!

जी भर के इकरार करें !
आओ …. हम तुम प्यार करें !!

बेदर्द जमाने की आहट
हमको बहुत सताई थी ,
लू के गरम थपेडे जैसे
पीडा भरी जुदाई थी ,
अब बागों मे बहारें चहक रहीं ,
हम सावन का सत्कार करें !
आओ …. हम तुम प्यार करें !!

खुशबू से फिजाएं महक उठी
समा रंगो से नहाया है ,
अंगडाई लेता ये बसन्त
सौगात मिलन का लाया है ,
जैसे जोडे तोता मैना के ,
हम खुद को तैय्यार करें !
आओ…. हम तुम प्यार करें !!

हम खुद मे खो जायें ऐसे
खुद का भी ख्याल ना हो ,
अरमानो के बीच खडा
दौलत का मायाजाल ना हो ,
छोड जमाने की झंझट ,
अब घर आंगन गुल्जार करें !
आओ …. हम तुम प्यार करें !!

वर्षों पहले संग मिलकर
हम जो ख्वाब संजोये थे ,
खिली हुई अब वो कलियां
उस दिन जिनको बोये थे ,
अब ख्वाबो से बाहर आकर ,
हम सपनो को साकार करें !
आओ…. हम तुम प्यार करें !!

कवि – अनुज तिवारी “इन्दवार”

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
मुमकिन नहीँ है अब हम  तुमको भूल जाएँ
मुमकिन नहीँ है अब हम तुमको भूल जाएँ आँखोँ मेँ बस गई है साथी तुम्हारी सूरत मुझको रुला रही है तेरे साथ की जरूरत आओ... Read more
मुक्तक
त्यौहार सीली है पर सुलग रही है लकड़ियाँ, तुम आओ तो कुछ बना ले हम.. जाने क्यों नाराज है बाबा, तुम आओ तो मना ले... Read more
हम = तुम
हम अल्लाह तुम राम हम गीता तुम क़ुरान हम मस्ज़िद तुम मंदिर हम काशी तुम मदीना हम जले तुम बुझे तुम जले हम बुझे हम... Read more
चले आओ
फिर फहफिल सजाए चले आओ, किसी से दिल लगाये चले आओ, नफरतो में डूबा है जमाना, हम मोहब्बत फैलाये चले आओ, तुम अदा से नज़रें... Read more