Nov 23, 2017 · कविता

*शूरवीर को प्रणाम है*

*शूरवीर को प्रणाम है*

हिन्द का हर लाल सिंह की दहाड़ है,,
दुश्मनो के मंसूबे इनके आगे परास्त है।।

हिन्द की माटी में पला यहाँ हर एक शूरवीर है,,
जो मांगे कश्मीर उसको देता वो चीर है।।

धर्म भाषा वेशभूषा सबकी अपनी भिन्न है,,
अगर आ जाये मुल्क खतरे में हो जाते एकजुट है।।

हर जांबाजों पर नाज मेरे देश को है,,
इनके हर शोर्यबल और साहस को सबका सलाम है।।

जिन जवानों ने खून बहाया मातृभूमि के लिए,,
है अमिट पहचान उनकी याद हर बलिदान है।।

सर कटा सकते झुका सकते नही ये वो वीर है,,
इनकी जुंबा पर देशभक्ति गीत औरआँखों मे तिरंगे का सम्मान है।।

जिस माँ का सपूत देश पर कुर्बान है,,
उस जन्मदात्री को सोनु का लख लख प्रणाम है।।

*सोनु जैन मन्दसौर*

1 Like · 1 Comment · 373 Views
Govt, mp में सहायक अध्यापिका के पद पर है,, कविता,लेखन,पाठ, और रचनात्मक कार्यो में रुचि,,,...
You may also like: