Skip to content

शुभकामना

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

कविता

March 12, 2017

अबकीबार मनायें ऐसी होली ,
ठग न जाए कहीं जनता भोली ।
भगवा रंग चढायें ऐसा ,
भर जाए हर गरीब की झोली ।।।।अबकीबार….
खिले कमलवत् सबका चेहरा ,
चढे रंग तन-मन पर गहरा ।
प्रेम के रंग में ऐसे रंग लें ,
हो जाये सब अंग सुनहरा ।।
खूब करें हम हँसी – ठिटोली ।। अबकीबार……
कलह द्वेष को दूर भगा दें ,
जन – जन में हम प्रेम जगा दें ।
सन्देश दें हम विश्व – शान्ति का ,
मानव – हित -की मुहिम चला दें ।।
पा जायें सब निधि अनमोली ।। अबकीबार…
*#प्रेम , उमंग , उल्लास एवं रंगों के पर्व होली की सभी को हार्दिक बधाईयाँ।
डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज

Share this:
Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you