शिव शंकर जी खेले होली

?????
शिव शंकर जी खेले होली
मैया पार्वती जी के संग।
?
तीन नयन मस्तक पर
चमक रहें हैं अर्ध चंद्र।
लट बिखरी खुली जटा
सिर से छलक रहें गंग।
?
शिव शंकर जी खेले होली
मैया पार्वती जी के संग।
?
गले में डोले मुंड माला
फूफकार रहे हैं भुजंग।
तन पर भस्म रमाये शिव
वीभत्स भेष बड़ा अभंग।
?
शिव शंकर जी खेले होली
मैया पार्वती जी के संग।
?
मिट्टी, राख,रेत लपेटे
अबीर,गुलाल लगे हैं अंग।
छेड़े सताये रंग लगाये
मैया पार्वती को करे तंग
?
शिव शंकर जी खेले होली
मैया पार्वती जी के संग।
?
पार्वती की गाल गुलाबी
कोरी चुनरिया भई सुरंग।
कार्तिक गणेश गोद लिये
मन में प्रीत भरी उमंग।
?
शिव शंकर जी खेले होली
मैया पार्वती जी के संग।
?
भूत पिशाच शोर मचाये
बसहा नंदी करे हुड़दंग।
बौरये हैं खा के धतुरा
शिव जी झूमे पीके भंग।
?
शिव शंकर जी खेले होली
मैया पार्वती जी के संग।
?
डमडम डमरू बजाये शिव
देवी-देवता बजाये मृदंग।
चौसठ योगिनी नाच रही
शिव शंकर जी हुये मलंग।
?
शिव शंकर जी खेले होली
मैया पार्वती जी के संग
?
दशों दिशाएं झूम उठे
प्रकृति हुआ रंग बिरंग।
महक उठा मन फागुनी
बहक उठा है वसंत।
?
शिव शंकर जी खेले होली
मैया पार्वती जी के संग।
?
जड़ चेतन सुखमय हुआ
तृप्त हुआ आदि अनंत।
ऋषि मुनी हुए मतवाला
सम्पूर्ण देवलोक हैं दंग।
?
शिव शंकर जी खेले होली
मैया पार्वती जी के संग।
????—लक्ष्मी सिंह ??

Like Comment 0
Views 228

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing