Skip to content

* शिव महिमा *

mahesh jain jyoti

mahesh jain jyoti

गीत

July 17, 2017

* शिव महिमा *
**************
बाबा भोले भंडारी की देखी महिमा अपरम्पार ।
महिमा अपरम्पार देखी महिमा अपरम्पार ।।
बाबा………

शीश चंद्रमा जटा जूट में चमक रह्यौ इतराकै ,
नीलकंठ में नाग भयंकर फुंकारै बल खाकै ,
पतित पावनी गंगा माँ की कल-कल बहवै धार ।
बाबा……..।।1

भाँग धतूरे के रसिया की कैसै छवी बखानूँ ,
और न कोई जानूँ अपनौ तोकूँ अपनौ जानूँ ,
बस तेरे ही नाम सहारे नैया लग जाय पार ।
बाबा………।।2

गोपेश्वर गर्तेश्वर बाबा तू है मनकामेश्वर ,
तू ही भूतेश्वर है बाबा तू ही है रंगेश्वर,
तू ही सत्य और सुंदर है जीवन कौ आधार ।
बाबा……….।।3

माँ गौरी सँग आन विराजौ हम सब के मन अँगना ,
गणपति के सँग निशदिन बाबा नैन हमारे बसना ,
“ज्योति” तुम्हारी शरण पड़ौ है कर देना उद्धार ।
बाबा…………।।4

-महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
***

Author
mahesh jain jyoti
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ जो सत्य की खोज में चला जा रहा है अपने लक्ष्य की ओर , गीत गाते हुए, कविता कहते और छंद की उपासना करते हुए... Read more
Recommended Posts
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more