शिव महिमा

शिव महिमा
★★★★★■■
देवों के भी देव कहाते,
भोले से पर नाथ कहाते।
दर्शन कठिन तपस्या इनकी,
जो मांगे वह वर दे जाते।।

#सोमनाथ ने तपे चंद्र को,
तब दक्ष श्राप से मुक्त किया।
गौतम गोदावरी नदी को,
#त्रयम्बकेश्वर ने मान दिया।।

मन भावन #केदारनाथ को,
प्रिय पर्वत श्री कैलाश किया।
पूज लिया जब #रामेश्वर तो,
श्री राम विजय-वरदान दिया।।

#श्रीनागेश्वर के चरणों में,
मनोकामना पूरन पाएँ।
दर्शन सूर्य उदय उपरांत,
#भीमाशंकर पाप मिटाएँ।।

#ओमकारेश्वर, हर नर्मदे,
ॐ नाम आकार बनाती।
पर्वत शैल भी कृष्णा नदी,
#मल्लिकार्जुन मन को रिझाती।।

#बैधनाथ लिंग देवों का घर,
कामना लिंग यही कहलाता।
#महाकाल की भस्म-आरती,
क्षिप्रा संग यह जग दुहराता।

#विश्वनाथ त्रिशूल ले काशी,
बाद प्रलय के फिर रख देंगे।
#घृष्णेश्वरी दुखित जन मन को,
आत्मिक शांति से भर देंगे।।

बारह ज्योतिर्लिंगों में नाथ,
हर हर महादेव कहलाते।
जो जन जपे नाथ की #जय जय,
मनवांछित फल प्रतिपल पाते।।
★★★★■■■
संतोष बरमैया “जय”

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 48

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share