Skip to content

शिव भजन

mahesh jain jyoti

mahesh jain jyoti

गीत

July 31, 2017

सावन के चौथे सोमवार को भगवान शिव के भक्तों की सेवा में सादर समर्पित एक शिव भजन …!
———————-
* शिव परिवार *
————–
मेंहदी हाथ रचावै गौरी , विजया छानै भोलेनाथ ।
छानै भोलेनाथ, विजया छानै भोलेनाथ ।।

कल-कल धार बहै गंगा की मैया करे किलोल ,
लड़ुआ लै कै घुटमन डोलै गनपति गोल मटोल ,
डमरू लै कै अपने हाथ बजाय रहे बाबा भोलेनाथ ।1।

खेलत कार्तिकेय ने पकड़ी झट बाबा की मूँछ,
नंदी देख हिलावै इत-उत अपनी लम्बी पूँछ ,
गिरिजा हँसी देख बाबा कूँ , हँस गये बाबा भोलेनाथ ।2।

नागराज फुंकारें , मोरा नाचै , मूषक डोलै ,
सिंह दहाड़ै महामाई कौ , भैरों बम-बम बोलै ,
अपनी शरण ‘ज्योति’ कूँ रखियो मेरे बाबा भोलेनाथ ।3।

-महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
*****

Share this:
Author
mahesh jain jyoti
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ जो सत्य की खोज में चला जा रहा है अपने लक्ष्य की ओर , गीत गाते हुए, कविता कहते और छंद की उपासना करते हुए... Read more
Recommended for you