Skip to content

शिव कुंडलिया

Prashant Sharma

Prashant Sharma

कुण्डलिया

July 23, 2017

मिले सभी को शिवकृपा,आया श्रावण मास।
भूतनाथ इक फूल से, करते पूरी आश।।
करते पूरी आश,कि प्यारे रोज मनाओ।
संकट होंगे बाम, बंधु नित फूल चढ़ाओ।
कह प्रशांत कविराय, सीख मिलती दंभी को।
रखे जो अच्छे भाव ,शिवकृपा मिले सभी को।।

प्रशांत शर्मा “सरल”
नरसिंहपुर नेहरू वार्ड
मोबाइल 9009594797

Author
Prashant Sharma
Recommended Posts
एहसास
फूल से कोमल मन काँच से नाजुक मन मन से कोमल एहसास एहसास से नाजुक आश एहसास से ही मन खिल उठे एहसास हुआ दिल... Read more
अंग्रेजी में फूल
जिनको चुभते थे कभी, हम भी बनकर शूल ! वही दे रहे आजकल, हमको प्रतिदिन फूल !! उनको कहना ठीक है, ..अंग्रेजी में फूल !... Read more
चाँद की  बस्ती  में काफ़िला सितारों का मिले
चाँद की बस्ती में काफ़िला सितारों का मिले उठा दो जहाँ पलकें मौसम बहारों का मिले दुनियाँ की भीड़ थी और हम आप से मिले... Read more
चाँद सी गुड़िया को मेरी रोशन आसमान मिले..................
चाँद सी गुड़िया को मेरी रोशन आसमान मिले चहकती सी इस चिड़िया को सारा गुलिस्तान मिले तवक़्क़ो से ज़्यादा तुझे प्यार और सम्मान मिले दिल... Read more