.
Skip to content

*शिक्षा*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

कविता

August 11, 2016

शिक्षा से फैले उजियारा
मिट जाता सारा अँधियारा
तिजारत ये पर आज बनी
नैतिकता से किया किनारा
निर्धन के बच्चों की खातिर
बँद हुआ है इसका द्वारा(134A)
बिना पढ़े डिग्री को पाता
फिरता वो जन मारा मारा (बिहार)
लाठी जब कानून की पड़ती
ला देती है अलग नज़ारा(बिहार)
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
शिक्षा
शिक्षा शिक्षा से बुद्धि का विकास होता है, शिक्षा से ज्ञान का विस्तार होता है, शिक्षा के द्वारा ही ये सब काम होता है शिक्षा... Read more
हम बिहार हैं
हम बिहार है। धन संपदा से परिपूर्ण फिर भी फटेहाल हैं हम बिहार हैं। स्वर्णिम इतीहास मेरा जनक, मौर्यो का धाम हैं हम बिहार हैं... Read more
शिक्षा जीवन गीत है
शिक्षा ही नित ग्यान दायनी,शिक्षा जीवन गीत है शिक्षा जन कल्याण की देवी,शिक्षा ही तो मीत है शिक्षा का कोई मोल नही है,न शिक्षा की... Read more
दर्द का मारा होगा गीत !
दर्द का मारा होगा गीत ! बिछुड़ जब जाये किसी का मीत, दर्द का मारा होगा गीत, जहाँ से मन हो जाये उचाट, दर्द भी... Read more