.
Skip to content

” शिक्षा – दीक्षा, मनी -मनी है “

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

कविता

February 1, 2017

अभिभावक की गहन परीक्षा ,
इंटरव्यू फिर प्रवेश- समीक्षा /
शिक्षा सिमट गयी बस्ते में ,
कहाँ मिल रही अब सस्ते में /
सरकारी शिक्षा भी केवल –
खाना-पीना, खेल बनी है //

शिशुओं के कांधे पर बोझा ,
रास्ता सुगम नहीं है खोजा /
खाना-पीना ,खेल, हैं भूले ,
ट्यूशन के पलने में झूले /
वाटर टैंक में डूबते बच्चे –
मात-पिता पर आन बनी है //

शिक्षा उच्च में भारी घपले ,
प्रतियोगी स्पर्धा ही ठग ले /
जाने कैसे सबक़ सिखाते ,
आत्महत्या छात्र अपनाते /
लक्ष्य से भटके ,यहाँ भविष्य हैं –
भाग-दौड़ है , तनातंनी है //

शिक्षा का विकास हुआ है ,
नैतिकता का ह्रास हुआ है /
डिग्री लेकर, घूम रहें हैं ,
सपनों में बस, झूम रहें हैं /
अगर निराशा, पली-बढ़ी तो –
जीवन से तकरार ठनी है //

मैकाले की नीति पुरानी ,
अब निश्चय ही बदली जानी/
रोजगार संग कौशल होगा ,
तकनीकी शिक्षा बल होगा /
बुलंद होंसले ,दृढ निश्चय से –
अपनी तो पहचान बनी है //

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
शिक्षा
शिक्षा शिक्षा से बुद्धि का विकास होता है, शिक्षा से ज्ञान का विस्तार होता है, शिक्षा के द्वारा ही ये सब काम होता है शिक्षा... Read more
शिक्षा जीवन गीत है
शिक्षा ही नित ग्यान दायनी,शिक्षा जीवन गीत है शिक्षा जन कल्याण की देवी,शिक्षा ही तो मीत है शिक्षा का कोई मोल नही है,न शिक्षा की... Read more
हाइकू
हाइकू” शिक्षा शिक्षा बेहतर है शिक्षा ले लो शिक्षा॥-1 शिक्षित घर खुशियों का आँगन हरें हैं बाग॥-2 नौ मन भार पढ़ाये बचपन झूकी कमर॥-3 खेलेने... Read more
जीवन एक खेल है
विलियम शेक्सपियर ने कहा था कि जिंदगी एक रंगमंच है और हम लोग इस रंगमंच के कलाकार! सभी लोग जीवन को अपने- अपने नजरिये से... Read more