Sep 17, 2016 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

शिकायतें

ख़फ़गी से भरी नहीं लगतीं शिकायतें उनकी,
तंज करती सी नहीं लगतीं शिकायतें उनकी,
शहद सी मिठास दावतों का इल्तिजाई लहजा,
आदाब में झुकी सी लगतीं शिकायतें उनकी।

1 Comment · 31 Views
Copy link to share
Rekha Rani
5 Posts · 180 Views
Follow 1 Follower
You may also like: