Skip to content

शारदे स्तुति में एक कवित्त छंद

कवि शिवम् कुमार 'आजाद'

कवि शिवम् कुमार 'आजाद'

कविता

August 7, 2016

शारदे स्तुति में एक छंद
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
विनती करूं मैं आज मात हाथ जोडिकें जी,
आइकें सभा में मात फेरी री लगाइ जा।
फसोए भंवर में री मात शिव तेरौ दास,
आइकें ओ मैया नैया पार री कराइ जा।।
हूँ अज्ञान मात मेरी टेरूँ कर जोड़ि तोइ,
आईकें ओ मैया मोइ ज्ञान री बताइ जा।
लेउ वीणा हाथ चढ़ो हंसा पै सरस्वती जी,
आईकें शिवम की माँ लाज री बचाइ जा।।
.
लेखन:-शिवम् कुमार यादव सिकंदरा राव (हाथरस)
मों.८३९२८०१४५६

Author
कवि शिवम् कुमार 'आजाद'
युवा नावोदित हास्य एवम् वीररस कवि शिवम् कुमार 'आजाद' ग्राम:-बरामई पोस्ट:-सिकंदराराऊ जिला:-हाथरस पिन:-204215 मों:-८३९२८०१४५६ ●●●●•】】】】】】】】】】】】】】】】】 विशेष रूचि:-दोहा,कुण्डलिया,मुक्तक,कवित्त,चौपाई एवम् स्वंत्र रचना के साथ साथ वीररस गीतकार
Recommended Posts
विकट तेरी महिमा
????? * विकट तेरी महिमा * ****************** विकट तेरी महिमा जग ने जानी है , ओ जगदम्बे मात ! * कियौ महिषासुर नै अभिमान ,... Read more
शारदे वन्दना
वन्दनाएं/ प्रार्थना/धार्मिक ÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷ चरणों में रखकर माथ में जोडू दोनों हाथ किरपा तो मैया मुझपर करो। तुम जानो मन की बात हे सारे जग की... Read more
सवैया छंद
कभी भी नहीं छोड़ना हाथ माते , करें प्रार्थना मान लीजे हमारी । बचा लो हमें घेरने आ रही है , शिकारी बनी मात माया... Read more
काव्यमय जीवन
विधा- गीतिका आधार छंद- लावणी छंद समांत- आर, पदांत- दिया। बहुत दिनों के बाद मीत मैं, लेखन को फिर धार दिया, भूल नहीं पाया हूँ... Read more