23.7k Members 50k Posts

शायरों ने कहा शायरी मिल गई

गीत को अब मेरे मौसिकी मिल गई
ग़म में भी अब मुझे हर खुशी मिल गई
??
मेरी महफिल की रौनक बढी़ आपसे
फिर बुझे दीप को रौशनी मिल गई
??
साथ तेरा मिला तो लगा ये मुझे
नीम जां को हसीं जिंदगी मिल गई
??
थाम के हाथ उसने कहा कान में
अब तुम्हें ये कली अध खिली मिल गई
??
चाहिए अब नही कुछ खुदा से मुझे
आइने को भी अब जिंदगी मिल गई
??
तल्खियों से डराओ न साहेब हमें
अब हमें मिश्री की इक डली मिल गई
??
जब हटाया था चिलमन हसीं रुख से तो
शायरों ने कहा —- शायरी मिल गई
??
जब मिले वो मुझे फिर कहूं क्यूं भला
जिंदगी को मिरी बेबसी मिल गई
??
लाख शुकराना तेरा ऐ मेरे खुदा
जिंदगी बेटे को फिर नई मिल गई
??
रोज चूमा करूं मां के प्रीतम कदम
शक्ले मां मुझे है परी मिल गई
?
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)

193 Views
प्रीतम श्रावस्तवी
प्रीतम श्रावस्तवी
भिनगा
377 Posts · 6.9k Views
मैं रामस्वरूप उपनाम प्रीतम श्रावस्तवी S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत...
You may also like: