.
Skip to content

शायरी

Sangita Goel

Sangita Goel

कविता

November 14, 2017

मेरी तहरीर ही मेरा अंदाजे बयां होगी
चर्चा ए दिल फिर जाने कहाँ कहाँ होगी
मत सोचा कर मुझे इतना तुु ख्यालो में
मेरी जीस्त तेरे वास्ते राज ए निहाँ होगी।।।।।।

संगीता “गीत” गोयल
14/11/17

Author
Sangita Goel
मेरी विधा दोहे, कुंडलियाँ, कविता, छंद, हाइकु, गजले, शेर, शायरी,मुक्तक, लघुकथा, कहानी, two liners,, गीत, भक्ति गीत, इत्यादि।।। अपनी गजले गाना मुझे पंसद है। नोएडा,, काफी सारे कार्यक्रम में भाग ले चुकी हूँ।।।। साहित्य से जुड़ी हुई हूँ।।। Facebook पर... Read more
Recommended Posts
करना चाहते हैं बहुत कुछ जिंदगी में
करना चाहते हैं बहुत कुछ जिंदगी में सोचते हैं शुरुआत कहाँ से होगी । बह जाएँ सारे गम पानी में ऐसी खुशियो की बरसात कहाँ... Read more
गजल
मेरी हर शाम खुशनुमा सी होगी जब तेरी पनाहों में ज़िंदगी होगी मेरी पलकों में है उनकी सूरत उनके लिये तो ये बेबकूफी होगी जो... Read more
हर  एक  समस्या  हल होगी
आज न हो पाई,कल होगी हर एक समस्या हल होगी नम होंगे जब तेरे नैना मेरी भी आँख सजल होगी वो कभी कभी तू आना... Read more
बंद कर लूंगा नजर गर गलती से भी तेरी दीद होगी
और ना मेरे रमदान पूरे होंगे न मेरी कोई ईद होगी बंद कर लूंगा नजर गर गलती से भी तेरी दीद होगी