शायरी

“शायरी”

***************************
कतारे़ तो सिर्फ़ मेरे दुश्मनों की थी वहाँ..!
जब देखा तो कई चेहरे जाने पहचाने निकलें..!
****************************
जिन्हे हम कहते थें अक्सर वो मेरे अपने हैं
जरूरत पड़ी उनकी, तो सभी बेगाने निकलें.
***************************
जिन्हे समझ बैठा था मै अपना खुदा
आज वो हीं मुझे समझाने निकले ं
****************************
वो कहते थे की हम ही है सिर्फ दीवाने उनके.
जैसे ही महफिल मे आयीं वो,कई और दीवाने निकले.
****************************
हम समझतें थे दिल के हर जख्म सुख चूकें है..

टीस जो मारतें हैं वो जख्म पुराने निकलें
*************************
बंद कर रखा था मैने मयखाना जाना..
उनके आँखों मे देखा तो कई मयखाने निकले.
****************************
रिश्तों के पीछे भागने की आदत सी थी मेरी.
पर कई रिश्तें अपने होकर भी बेगाने निकलें
***************************
सुना है उनके मुहल्ले मे मय की दरिया बहता हैै..।
कुछ सोच हम भी अपनी प्यास बुझाने निकले..।
****************************
यह जानकर भी की मुश्किल है “दरिया ए इश्क” पार करना..।

हम भी पागल दीवाने थें जो इसे पार करने निकलें..।
****************************
दम निकलने तक जिंदा रखा हमे.
दुश्मनों से थोड़ा वो कम निकले
**************************
ओढ रखा था मैने जाने कितने गमों का चादर.!
फिर भी जाने क्या सोच सिलवाने वो कफन निकले.!
****************************
निकले थे सफर मे खुद को तन्हा हीं मान कर,
राहे सफर मे कई चेहरे जाने पहचाने निकले
****************************
वो रुठें रहें हमारा सबकुछ छीन कर..।
हम अपना सब कुछ खोकर उन्हे मनाने निकले.।
****************************
बंद कर देना मेरी इन पलकों को मेरे मरने के बाद.
कहीं मेरे कातिलों मे उनका भी चेहरा न निकले.
****************************
रहता था जिनसे रौशन घर का आंगन
आज वो ही दीपक बुझाने निकले.
****************************
साँसे रोक कर बैठे हैं हम कब से,
माझी मेरा आए तो दम निकले ….।
***************************
विनोद सिन्हा-“सुदामा”

Like Comment 0
Views 126

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share