.
Skip to content

शायरी

वेदप्रकाश रौशन

वेदप्रकाश रौशन

शेर

July 29, 2017

कभी नैन तरसते थे किसी के दीदार को,
अरसे बीत गए, लोग भी बदल गए,
मगर दिल आज भी खिल उठता है,
देखकर अपने प्यार को…|

तेरी एक इनकार से,
मेरी सारी हसरतें मर गए,
बेवफा तुझसे क्या,
हम तो अपनी चाहत से ही हार गए|

उसे ना पाकर आज,
हम खुद बेजान हो गए,
अब तो सिर्फ यही सोंचता हूँ,
आँखों से मोहब्बत पढ़कर भी,
वो क्यूँ अनजान हो गए|

मेरी सुबह की चैन,
रातों की आराम थी वो,
खामोश मैं था की,
बता नहीं सका किसी को,
मेरी तो जान थी वो…|

तुम भले खुश रह लो,
किसी और की बाँहों में,
मै आज भी जीना चाहता हूँ,
तेरी जुल्फों की छाँहों में…..||

चाहा तो कइयों को,
चाहत न बना सके,
सिर्फ तू बसी है दिल में मेरी,
किसी और को ये जगह न दे सके|

हर जख़्म वक़्त का गुलाम होता है,
कभी किसी को हरा कर जाता है
तो किसी को भर जाता है|

मेरी ख़ामोशियों को गुमान न समझना,
डर मुझे है, महफ़िल में तेरे बदनाम होने की,
अपने दिल में छुपी चाहत को एहसान मत समझना|

तेरे मिलने का कोई गम नहीं मुझे,
तेरी मुस्कुराहट से ही मेरी ज़िन्दगी गुजर जाएगी|

वेदप्रकाश रौशन

Author
वेदप्रकाश रौशन
हिंदी का उपासक, सहित्य प्रेमी । सांस्कृतिक बचाव के लिए एक छुपा हुआ छोटा सा कलम का पूजारी । विभिन्न विधाओं में रूचि के अनुसार लेखन करता हूँ । लेख तथा कहानी विशेष तौर से लिखना पसंद करता हूँ ।।
Recommended Posts
शब्द पानी हो गए
छोड़कर हमको किसी की जिंदगानी हो गए ख्वाब आँखों में सजे सब आसमानी हो गए प्रेम की संभावनाएँ थीं बहुत उनसे, मगर, जब मिलीं नजरें... Read more
गज़ल :-- मैकदों में लड़खड़ाने आ गए ॥
गज़ल :--मैकदों में लड़खड़ाने आ गए ॥ प्यार वो हम से जताने आ गए । आज फ़िर से आजमाने आ गए । बेडियां पैरों में... Read more
किस्से पुराने याद आये है।
आज किस्से फिर पुराने कुछ याद आये है, कुछ तज़ुर्बे है जो फिर लिखाये गए हैं घर की दीवारों को शीशे में बदला क्या मैंने,... Read more
#विरोधाभाषी परिभाषाएं
?? विरोधाभाषी परिभाषाएं ?? ?????????? *वो दाता हम दीन हो गए, ज्यों भारत को चीन हो गए।* *रसगुल्लों के बीच सड़ी-सी, हम कड़वी नमकीन हो... Read more