.
Skip to content

@@ शायरी @@

अजीत कुमार तलवार

अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

शेर

March 15, 2017

जिस्म की तलाश में.
गुजार गया वो राते अपनी
कभी कोठे पर और
कभी मैखाने में..

फनाह होता देखा रूप सबका
जब देखा एक मुर्दे को
शमशान की तरफ
कांधे पर सब के जाते हुए ..

Author
अजीत कुमार तलवार
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906
Recommended Posts
घर को अपने ही चिरागों से भी जलते देखा
हद से अपनी कभी रिश्तों को गुजरते देखा दौरे हाजिर में पुरानो को भी बदलते देखा ********************************* रौशनी को हम उम्मीदों मे जलाते हैं मगर... Read more
हुस्न कोई गर न टकराता कभी
तू बता मेरी तरफ देखा कभी और देखा तो बुलाया क्या कभी चाहेगा जब पास अपने पाएगा क्या मुझे है ढूढना पड़ता कभी तू नहीं... Read more
रहे मदहोश हम मद में ,न जब तक हार को देखा
रहे मदहोश हम मद में ,न जब तक हार को देखा हमें तब होश आया जब समय की मार को देखा गरीबी से कहीं दम... Read more
देखा है
तपती रातों में हमने मौसम को सर्द देखा है। तुम्हारे दर्द में हमने हमारा दर्द देखा है। बदलती दुनिया में हमने गिरगिट का शागिर्द देखा... Read more