.
Skip to content

शायरी

अजीत कुमार तलवार

अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

शेर

March 6, 2017

मरना है तो मरो वतन के लिए
खुद ख़ुदकुशी करने से क्या मिलेगा
नाम रोशन करो भारत माता का
अरे खुद गले में रस्सी डाल क्यूं मरते हो

बलात्कार करते हो, देश में,
मौज कर रहे हो , विदेश में,
क़त्ल कर देते हो, जेल में,
कैसे कैसे लोग हैं, मेरे देश में….

अजीत

Author
अजीत कुमार तलवार
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906
Recommended Posts
मुक्तक
तेरी याद से खुद को आजाद करूँ कैसे? तेरी चाहत में खुद को बरबाद करूँ कैसे? लब्ज भी खामोश हैं बेबसी की राहों में, तेरी... Read more
कैसे कहु मेरा देश आजाद है/मंदीप
समझा जाता जहाँ नारी को जूती के समान, होता जहाँ नारी का हर रोज अपमान, कैसे कहु मेरा देश आजाद है। बन्दी पट्टी जिस देश... Read more
कैसे होगा भला देश का
कैसे होगा भला देश का मोदीजी ने यही बताया । नींद उड़ गई पडोसियो की काला धन सब बाहर आया ॥ राजनिती के इतिहास में... Read more
सरफिरे
बीच सफर में मै खुद को रोक दू कैसे। सरफरो के हाथों जिंदगी सौंप दू कैसे ।। वह मदहोस है मोहब्बत के जस्न मे, अपने... Read more