.
Skip to content

शायरी

अजीत कुमार तलवार

अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

शेर

March 2, 2017

मोहोब्बत करने वालों को लोग
अब लैला और मजनू का नाम नहीं देते
अब वो प्यार ही कहाँ मिलता है जमाने में
जहाँ काम , वासना, विलासता ने है जगह ले ली

तनहा दिल को तन्हाई भी
रास नहीं आती है दोस्तों
वो तो साथ रहने है, उस को
जिन्दगी चलाने के लिए हर पल
अजीत

Author
अजीत कुमार तलवार
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906
Recommended Posts
अब भी है।
रदीफ- अब भी है। कलम मेरी,उनके अशआर अब भी हैं। दूर हैं, मगर सरोकार अब भी हैं। उनकी चाहत का खुमार अब भी है। वो... Read more
वो बात अब नहीं जमाने में
वो बात नहीं अब जमाने में, जो कभी हुआ करती थी; वो हवाएँ अब नहीं चलती, जो कभी चला करती थी। जिंदगी मसरूफ थी तो... Read more
सच्चाइयाँ वो अब कहाँ
कविता जहाँ पर जन्म ले तन्हाइयाँ वो अब कहाँ कुछ शब्द हैं पर भाव की गहराइयाँ वो अब कहाँ फूलों भरी वो वादियाँ कलकल कहाँ... Read more
__________________________________ घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर, वो चिडिया अब मेरे आँगन में आती नहीं... ******************************* मैने उसे याद किया नहीं पहले... Read more