Skip to content

शायरी –

पुष्पराज यादव

पुष्पराज यादव

शेर

July 16, 2016

ये मेरी बेबसी है या मेरी गुरूरदारी है ;
चंद लम्हों की जिन्दगी में ख्वावजारी है |
ख्वाहिशों के दिये जो भी जले बुझते ही गये;
उन आंधियाों को कैसे रोकूं जिनसे मेरी यारी है |

Author
पुष्पराज यादव
एक हिन्दी कवि एवं लेखक जो कविता, गीत, गजल, मुक्तक, दोहा, छंद रचनाकार श्रंगार रस एवं युगधर्म प्रधान कवि | हिन्दी साहित्य विद्यार्थी|
Recommended Posts
** मेरी बेटी **
Neelam Ji कविता Jul 19, 2017
मिश्री की डली है मेरी बेटी , नाजों से पली है मेरी बेटी । हर गम से दूर है मेरी बेटी , पापा की परी... Read more
मेरी  लाडली  तेरा  महकना  आरज़ू  मेरी
suresh sangwan गीत Dec 11, 2016
मेरी लाडली तेरा महकना आरज़ू मेरी तू जन्नत की हूर है मेरी आँखों का नूर है मेरी लाडली तेरा महकना आरज़ू मेरी तेरी किल्कारियों ने... Read more
मेरी बेटी - मेरा वैभव
कविता मेरी बेटी - मेरा वैभव - बीजेन्द्र जैमिनी मेरी बेटी मेरी शान मेरी आनबान मेरी है पहचान मेरी बेटी - मेरा वैभव मेरी बेटी... Read more
है ख्वाहिश मेरी
तेरे संग वक्त बिताना है ख्वाहिश मेरी तुझे हर सुख दुख सुनाना है ख्वाहिश मेरी । तुझे ख़्वाबों में सताना है ख़्वाहिश मेरी । तुझे... Read more