शायरी

बेदर्द जमाने में दर्द बहुत हैं
पर मैंने तो देखा यहाँ
खुदगर्ज बहुत हैं
बेवजह में टांग अडाने वाले
परेशां इंसान बहुत हैं , और
सच्ची राह दिखने वाले
खुदा के परवाने भी बहुत हैं !!

यूं ही नहीं बात करते हम तुम से
कुछ न कुछ तो जरूर देखा होगा
जो तुम आज तक शायद
हम को कुछ भी नहीं समझते
दिल से चाह है, दिल से माना है
फिर भी , अपनी निगाह
तुम हर पर नहीं करते !!

अजीत तलवार

Like Comment 0
Views 14

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share