.
Skip to content

शायरी

अजीत कुमार तलवार

अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

शेर

February 18, 2017

हमने तो बहुत पुकारा तेरा नाम , दिल को समझा के
पर वो कहता था, गलत फ़हमी में न जिया करो यार
उनको अगर होना होता न तुम से प्यार ओ पागल
अब तक भेज चुके होते तेरे लिए अपना फरमान !!

दूरियां घटा कर जो हम ने अपनी चाहत बना डाली
उनके लबों की हंसी को अपनी फितरत बना डाली
उनके मुस्कुराने का अंदाज इतना ज्यादा निराला है
हम ने तो उनके साथ अपनी सारी दुनिया बना डाली !!

अजीत तलवार
मेरठ

Author
अजीत कुमार तलवार
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906
Recommended Posts
((( इन्टरनेट -शुक्रिया )))
यह इन्टरनेट भी क्या चीज बना डाली है सारी दुनिया ही इस में समां डाली है में लिखता हूँ अपने शेहर से कुछ अल्फाज और... Read more
*  हम तक़दीर कहां बना पातें हैं *
तकदीरें बनती बिगड़ती है हम तक़दीर कहां बना पाते हैं मगर तस्वीर हम जब चाहे तब सीने से लगाकर सुकून पा लेते हैं फिर भी... Read more
गज़ल
मिसरा­-हम उसे देवता बना देगे। काफ़िया-­मर्तबा,देवता,माज़रा रदीफ­-बना देंगे। हम उसे देवता बना देंगे . . .. . . . .. .। हैं हम समंदर इश्क... Read more
जैसी चाहत वैसे फल
**हम यूँ ही शरमाते रहे, लोगों को अपना समझकर, लोगों ने अपनाया ही नहीं, अपनी दशा ..सुना डाली, पशु-पक्षियों के नाम से सजी गालियां दे... Read more