Skip to content

शायरी

विनोद कुमार दवे

विनोद कुमार दवे

शेर

September 28, 2016

फूल देखकर जिसकी याद आती थी,
आज न जाने क्यों वो शख़्स कांटो सा लगता है। **** ****
जिन पलों का जिंदगी भर इन्तजार करते रहे,
वो पलकों पर ठहरे तो भी आंसू बनकर।
**** ****
उस शख़्स ने मेरी छाया भी ख़ुद पर पड़ने नही दी,
जिसकी पलकों की छाया में मुझे जिंदगी बितानी थी।
**** ****
हर किसी को कहना है, कोई सुनने को तैयार नहीं,
बातें भी बिन मतलब की जिनका कोई सार नहीं।
आओ हम कम बोले, आँखों से ज्यादा बात करे,
जो लफ़्जो में मुमकिन न हो,ख़ामोशी से वो बात कहे।
**** ****

Author
विनोद कुमार दवे
परिचय - जन्म: १४ नवम्बर १९९० शिक्षा= स्नातकोत्तर (भौतिक विज्ञान एवम् हिंदी), नेट, बी.एड. साहित्य जगत में नव प्रवेश। पत्र पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित।अंतर्जाल पर विभिन्न वेब पत्रिकाओं पर निरन्तर सक्रिय। 4 साझा संकलन प्रकाशित एवं 17 साझा संकलन प्रकाशन... Read more
Recommended Posts
〽आते है जिंदगी में〽
*〽आते है जिंदगी में〽* कुछ बदलकर आते है जिंदगी में,, कुछ सम्भलकर आते है जिंदगी में.. हर कोई शख्स कहा समझ पाता है,, कुछ निकलकर... Read more
खुदा तो नहीं देखा पर एहसास मिलता रहा है
खुदा तो नहीं देखा पर एहसास मिलता रहा है पिता बन के मेरे साथ हमेशा चलता रहा है न दिखा सके किसी रात में ख़ौफ़... Read more
ग़ज़ल ..'मै मिलूंगा तुझे.... अज़नबी की तरह..'
===*====*========*====*=* ज़िंदगी में तड़प .. तिश्नगी की तरह मौत से मिलन हो.. ज़िंदगी की तरह आएगा ख्वाब फिर से.. यही सोचकर आँख मूंदी रही...... तीरगी... Read more
जिंदगी
1. जिंदगी, मुश्किल ही सही पर, मजे़दार बहुत है ! 2. जिंदगी, तुम वो तो नहीं ? जो पहले मिली थी कहीं, 3. जिंदगी, कभी... Read more