Sep 28, 2016 · शेर
Reading time: 1 minute

शायरी

फूल देखकर जिसकी याद आती थी,
आज न जाने क्यों वो शख़्स कांटो सा लगता है। **** ****
जिन पलों का जिंदगी भर इन्तजार करते रहे,
वो पलकों पर ठहरे तो भी आंसू बनकर।
**** ****
उस शख़्स ने मेरी छाया भी ख़ुद पर पड़ने नही दी,
जिसकी पलकों की छाया में मुझे जिंदगी बितानी थी।
**** ****
हर किसी को कहना है, कोई सुनने को तैयार नहीं,
बातें भी बिन मतलब की जिनका कोई सार नहीं।
आओ हम कम बोले, आँखों से ज्यादा बात करे,
जो लफ़्जो में मुमकिन न हो,ख़ामोशी से वो बात कहे।
**** ****

1 Comment · 376 Views
Copy link to share
विनोद कुमार दवे
42 Posts · 4.6k Views
Follow 1 Follower
परिचय - जन्म: १४ नवम्बर १९९० शिक्षा= स्नातकोत्तर (भौतिक विज्ञान एवम् हिंदी), नेट, बी.एड. एक... View full profile
You may also like: