-- शायरी --

“कोयले” की ख़दान में…
हीरे के मानिंद ,
दबे घुटे जिये जाते हैं हम,!
इक पारखी निगाह चाहिए
तराशने के लिए..-!!

“तू” “आदत” -… सी बन गया है,
वक्त की “रफ़्तार” नहीं,
जो ,उम्र के साथ “दराज़” तो होती है,
मगर छूटती नहीं, !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Like 2 Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share