.
Skip to content

शायरी भाग 1

Sonika Mishra

Sonika Mishra

शेर

October 20, 2016

मेरी ज़िंदगी की तन्हाई का,
कोई रास्ता नहीं है |
हर पल एक चोट सी चुभी है,
मेरी मुस्कान का इससे,
कोई वासता नहीं है ||
**************
हर तरफ एक धुंद सी छायी है,
मेरी आँखों की नमी,
फिर भी नज़र आई है |
कोई खामोश है इस तरह,
जैसे दिल में रहती परछाई है |
किसी ने छुपाया है हर राज़ दिल का,
तो क्यों कहे हम उसे हमराज़ दिल का ||
*****************

मैं जो हूँ वो कोई जानता नहीं है,
शायद यहाँ कोई मुझे पहचानता नहीं है |
खोये है भीड़ में हम,यहाँ कोई सहारा नहीं है ||
मेरे आंसू ही मुझे हँसा देते है,
मेरी खुशियों का कोई किनारा नहीं है |
*****************

बैठे थे तेरे इंतज़ार में,
कोई ख्वाइश अधूरी रह गई तेरे प्यार में |
मिलने जा रही हूँ आज लहरों से,
फिर भी इंतज़ार है तेरा,
काश तू रोक ले मुझे बहने से ||
**************

कोई ख़ुशी युँ ही गुज़रती नहीं है,
हवा भी बेवजह थमती नहीं |
ज़रा मुस्कुरा कर स्वागत करना इनका,
क्युकि मुश्किलें कमज़ोरों को मिलती नहीं है ||

– सोनिका मिश्रा

Author
Sonika Mishra
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||
Recommended Posts
जला हरपल मुहब्बत में
जला हरपल मुहब्बत में मेरी साँसे महकती है खुमारी है अजब सी ये दिल मे शोला भड़कती है लगे हर शै नया अब तो मेरी... Read more
** मेरी बेटी **
Neelam Ji कविता Jul 19, 2017
मिश्री की डली है मेरी बेटी , नाजों से पली है मेरी बेटी । हर गम से दूर है मेरी बेटी , पापा की परी... Read more
दुनियाँ से न्यारी मेरी गुलगुल
दुनियाँ से न्यारी मेरी गुलगुल पापा की प्यारी मेरी गुलगुल आँखों का ख़्वाब रातों की नींद दिन की तैयारी मेरी गुलगुल सुकून-ए-दिल ओ चैन की... Read more
गजल
मेरी हर शाम खुशनुमा सी होगी जब तेरी पनाहों में ज़िंदगी होगी मेरी पलकों में है उनकी सूरत उनके लिये तो ये बेबकूफी होगी जो... Read more