शेर · Reading time: 1 minute

शायरी – नहीं हूँ शायर अव्वल दर्जे का

मेरी इस चमक कर उभरती वेब साईट पर पहली शायरी की रचना

” नहीं हूँ शायर अव्वल दर्जे का
कभी कभार लफ्जों से शरारत कर लिया करता हूँ |
नहीं है तजुर्बा किताबों के लायक बनने का
बस टूटे फूटे लफ्जों में रस भर लिया करता हूँ |”

371 Views
Like
You may also like:
Loading...