Skip to content

शायरी – नहीं हूँ शायर अव्वल दर्जे का

कृष्ण मलिक अम्बाला

कृष्ण मलिक अम्बाला

शेर

July 27, 2016

मेरी इस चमक कर उभरती वेब साईट पर पहली शायरी की रचना

” नहीं हूँ शायर अव्वल दर्जे का
कभी कभार लफ्जों से शरारत कर लिया करता हूँ |
नहीं है तजुर्बा किताबों के लायक बनने का
बस टूटे फूटे लफ्जों में रस भर लिया करता हूँ |”

Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर... Read more
Recommended Posts
ग़ज़ल- ये नहीं पूछना क्या करे शायरी
ग़ज़ल- ये नहीं पूछना क्या करे शायरी ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ ये नहीं पूछना क्या करे शायरी घाव हो गर कोई तो भरे शायरी तेरा कुनबा रहे आसमाँ... Read more
***     मैं वो शायर नहीं  *****
मैं वो शायर नहीं हूँ दोस्तों जो अपने ग़म को सीने में छुपा कर शायरी में बयां करता है दफ़न मुहब्बत कर दुनियां से बयां... Read more
शायर
Anil Commando शेर Feb 18, 2017
चाहत की तलाश मे ना जाने कँहा से चलकर आया हूँ मैं , हर एक इंसान को उसी की जुबान से सुनता आया हूँ मैं... Read more
कविता किया करता हूँ
ऊषाकालीन रश्मियों में सर्दी की रंगीनियों में छत पे बैठकर जब भी मैं गर्मी लिया करता हूँ बस तभी मैं - कविता किया करता हूँ... Read more