शायरी तक आ गए

हम जो डूबे प्यार में तो शायरी तक आ गए
भाव दिल के सब उतर कर लेखनी तक आ गए

जीत तो पाये नहीं हम दिल तुम्हारा प्यार में
पर ख़ुशी है हम तुम्हारी दोस्ती तक आ गए

नाम पर अब आधुनिकता के यहाँ पर दोस्तो
नौजवानों के कदम आवारगी तक आ गए

याद की पगडंडियों पर चलते चलते हम यहाँ
अपने पहले प्यार की सँकरी गली तक आ गए

जानते थे प्यार का मतलब नही हम ‘अर्चना’
पर चले जब राह इसकी बन्दग़ी तक आ गए
डॉ अर्चना गुप्ता

Like Comment 0
Views 425

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share