शायरी कर रहा हूँ...

मैं ज़िन्दगी बस अब यूँ ही बसर कर रहा हूँ!
मैं लफ्ज़ ब लफ्ज़ उन को नज़र कर रहा हूँ!

लद गये वो दिन जब हम आशिकी थे करते!
ज़नाब अब शायर कहिये शायरी कर रहा हूँ!
🍁-AnoopS©
24 Nov 2019

Like 6 Comment 0
Views 2

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share