शायरी- अँधेरा

इतना तो दर्द लाज़िम है ‘दवे’बेलौस जवानी में,
बारिश हो अश्क़ों की हर प्रेम कहानी में।
*** ***
अँधेरा ख़ौफ़ज़दा है उजालों की आहट पाकर,
कभी कभी चिराग़ भी जलते है चाहत पाकर।
*** ***
दर्द इतना ही लिख मेरे ख़ुदा,
कि उफ् तो निकले पर ‘आह’ न निकल जाए।
इतना ही तड़फा किसी को,
कि जीने की चाह न निकल जाए।
*** ***

Like Comment 0
Views 226

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing