.
Skip to content

शाम डरते हुए

विजय कुमार नामदेव

विजय कुमार नामदेव

गज़ल/गीतिका

February 2, 2017

बेशर्म की कलम से

शाम डरते हुए

रोज कितने मुख़ौटे लगाता हूँ मैं।
हर रिश्ते को दिल से निभाता हूँ मैं।।

तुम जिन्हें चाँद तारे या सूरज कहो।
उनको शाला में नित ही पढ़ाता हूँ मैं।।

पूछते लोग खुशबू ये कैसी कहो।
तेरी यादों से अक्सर नहाता हूँ मैं।।

शेर बनकर फिरूँ सारे जग में मगर।
शाम डरते हुए घर को आता हूँ मैं।।

कहने को बेशरम हूँ मगर जाने क्यों।
बेसबब याद सबको ही आता हूँ मैं।।

विजय नामदेव “बेशर्म”
गाडरवारा मप्र
09424750038

Author
विजय कुमार नामदेव
सम्प्रति-अध्यापक शासकीय हाई स्कूल खैरुआ प्रकाशित कृतियां- गधा परेशान है, तृप्ति के तिनके, ख्वाब शशि के, मेरी तुम संपर्क- प्रतिभा कॉलोनी गाडरवारा मप्र चलित वार्ता- 09424750038
Recommended Posts
मुक्तक
होते ही शाम मैं किधर जाता हूँ? जुदा ख्यालों से मैं बिखर जाता हूँ! खौफ होता है यादों का इसकदर, जाँम की महफिल में नजर... Read more
"मैं प्रेम हूँ" प्रेम से भरा है मेरा हृदय, प्रेम करता हूँ, प्रेम लिखता हूँ, प्रेम ही जीता हूँ, मुझसे नफरत करो, मेरा क्या, मुझे... Read more
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ..
ऐसे मैं दिल बहलाता हूँ.. जीवन के उन्मादों को सहता जाता हूँ, कभी -२ तो डरता और सहमता भी हूँ, पर ऐसे मैं अपना दिल... Read more