.
Skip to content

शान

Raj Vig

Raj Vig

कविता

August 12, 2017

जंगल मे जानवर बहुत हैं
भालू, चीता, हाथी सबकी अपनी आन है
लेकिन जब निकलता शेर अपनी मांद से है
उसकी अलग अपनी शान है ।

बाजार मे आभूषण बहुत हैं
चांदी, सोने श्रंगार के गहने सबकी अपनी आन है
लेकिन जब निकलता कोहिनूर खदान से है
उसकी अलग अपनी शान है ।

आकाश मे तारे सितारे बहुत हैं
सूरज, चन्दा, बृहस्पति सबकी अपनी आन है
लेकिन जब निकलता धूमकेतु अपनी राह मे है
उसकी अलग अपनी शान है ।

भीड़ मे चलते बहुत लोग हैं
नेता,कलाकार,खिलाड़ी सबकी अपनी आन है
लेकिन भीड़ से अलग जब चलता कोई इन्सान है
उसकी अलग अपनी शान है ।

दुनिया मे देश बहुत हैं
जापान, चीन, अमेरिका सबकी अपनी आन है
लेकिन तिरंगा भारत का जब लहराता आकाश मे है
उसकी अलग अपनी शान है ।।

जय हिंद

राज विग

Author
Raj Vig
Recommended Posts
जां से बढ़कर है आन भारत की
जां से बढ़कर है आन भारत की कुल जमा दास्तान भारत की सोच ज़िंदा है और ताज़ादम नौ'जवां है कमान भारत की देश का ही... Read more
विविधता
अलग-अलग उदधि-लहरें,लगतीं हैं पर यार, हिल-मिल सब संग रहतीं,अलग नहीं है यार, विविध-विविध सा बहुत है,रंग,धर्म अरु जात, विविध-विविध गुलों से ही,शान बाग़ की यार।।
बेटी
" बेटी " --------------- हरी घास पर क्षण भर बैठी ! ये भारत की शान | मन में एक उमंग है होठों पर मुस्कान ||... Read more
"बेटी " आन बान मान बेटी, सबकी हैं शान बेटी। हर जगह बेटी का, सम्मान होना चाहिए। घर भी चलायें बेटी, वंश भी बढ़ाये बेटी।... Read more