23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

शादी का व्यापार

शादी का व्यपार
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
शादी की व्यापार आज कल
चरमोत्कर्ष पे काबिज है ।
चलता फिरता है दूकान यह
कहीं भी आज मुनासिब है ।।

लड़कों की नीलामी होती
सरे आम बाजारों में ।
अच्छे लोग आजकल तो
मिलते हैं एक हजारों में ।।
शादी का व्यपार………………..

कहीं दलालें पान दबाये
भृकुटियाँ चमकाते हैं ।
कहीं शिकंजे कहीं कसौटी
कहीं दाँव दिखलाते हैं ।।
शादी का व्यापार……………….

समझदारी के चोला पहने
कुछ गद्दार भी होते है ।
कुछ मासूम जिंदगी को
नरकों का जीवन देते है ।।
शादी का व्यापार……………

एक साजिश है एक सिस्टम है
जिस घेरे में सब पिसते हैं ।
और जानबूझकर दुनिया में
बच्चों के जीवन घिसते है ।।
शादी का व्यापार………………..

जागो हे युवान देश के
दुष्टों का संहार करो ।
हर घर में रावण बैठा है
उसका तुम निस्तार करो ।।
शादी का व्यापार………………

दुष्कर बंधन तोड़ युवतियाँ
आँख ज़रा अम्बर से मिलाओ ।
इस बेहुद्दी परंपरा को
मिलकर सब अब दूर भगाओ ।।
शादी का व्यापार………………

सामरिक अरुण
देवघर झारखण्ड
15/04/2016

23 Views
Arun Kumar
Arun Kumar
18 Posts · 297 Views
अहम् ब्रह्मास्मि
You may also like: