शहीद

ज़हन में अगरचे सदाकत न होगी!
कभी आपसे फ़िर मुहब्बत न होगी!!
भले लाख़ कोशिश करे ये ज़माना!
मगर पाक फ़िर से सियासत न होगी!!
शहीदों से रोशन हमारा वतन है!
शहादत सरीख़ी इबादत न होगी!!
अगर ज़िंदगी में रहेगी सदाकत!
वफ़ा की डगर पे तिजारत न होगी!!
मुसाफ़िर का दावा बड़ा ही सुहाना!
हमें अब किसी से शिकायत न होगी!!

धर्मेन्द्र अरोड़ा
“मुसाफ़िर पानीपती”
*सर्वाधिकार सुरक्षित*©®

Like 1 Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing