गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

शहीदों को मेरा है शत शत नमन

जिंदगी देश हित कर गये जो हवन
उन शहीदों को मेरा है शत् शत् नमन

इश्क था इस कदर मुल्क के बाग से
जान दे कर खिलाया गुलों का चमन

खून से तरबतर जिस्म जब हो गये
ओढ़ कर आ गये थे तिरंगा कफ़न

ख्बाव कुछ तो शहीदों के साकार हो
देश मे बढ़ सकें काश चैनो अमन

सर कटाने पड़े जब हमें हर घड़ी
बंद हो तो मुलाकात का ये चलन

शॉल का मूल्य था खून से क्यों बड़ा
पूछता है तिरंगे मे लिपटा ललन

याद मे तुम हमारी लिखो कुछ शरद
भूल जायें न हमको ये प्यारा वतन

©
शरद कश्यप ” शरद “

1 Like · 18 Views
Like
30 Posts · 749 Views
You may also like:
Loading...