23.7k Members 50k Posts

शहादत साहिबजादों की।

सिरसा नदी के किनारे,
गुरुद्वारा बीछोड़ा साहिब जी;
यही वह स्थान जहां बिछड़ा,
परिवार मेरे साहिब का जी।

जब हुए होंगे सब जुदा,
मां का हुआ होगा क्या हाल जी;
क्या बीती होगी मां के दिल पर,
जिसने खो दिये चारों लाल (पुत्र)जी।

कैसे ठंडी हवा होगी चल रही,
ठंडे बुर्ज में वो कौन कांप रही;
कैसे बीती होगी रात सोचना,
दादी गुजरी के साथ गोविंद के लाल जी।

नींव में शहीद होने को तयार,
माता सुंदरी के नन्हें लाल जी;
फतेह सिंह और ज़ोरावर सिंह ने,
कर दिया कमाल जी।

दशमेश पिता के बड़े लाल,
साहिबजादे अजीत और जुझार जी;
शहादत को लख लाख बार नमन,
मान बढ़ा, कर गए पंथ की जीत जी।

*कुलदीप कौर* “दीप”

5 Likes · 2 Comments · 17 Views
Kuldeep Kaur
Kuldeep Kaur
5 Posts · 2.7k Views
You may also like: