.
Skip to content

शहादत पर

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

कविता

December 2, 2016

एक पल के लिए बनाने वाला भी रोया होगा,
किसी का अरमान जब यूँ मौत की नींद सोया होगा।
हाँथों की मेहँदी छूटी भी नहीं कि चूड़ियाँ तोड़नी पड़ी,
कौन है जो ये लम्हा देखकर न रोया होगा।

Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended Posts
लगता है अपनों ने फंदा पिरोया होगा
मरने से पहले वो कितना रोया होगा ! पाकर सबकुछ फिर उसने खोया होगा !! बेवजह ऐसे कोई नहीं मरता यारों , जरूर जिंदगी में... Read more
लगे मुझको जुदाई में बरस सावन हुआ होगा
बरस बीते गले मिलकर, नहीं रोया, नहीं बोला लगे मुझको जुदाई में बरस सावन हुआ होगा ------------------- लोग कुछ हैं पालते नफरत यही बस सोचकर... Read more
हमकों नहीं घबराना होगा
हमकों नहीं घबराना होगा। नदी की बहती धारा जैसे, हमको बढ़ते जाना होगा आंधी,तूफाँ,बरसातों से भी नही हमको घबराना होगा। अटल खड़े पहाड़ो है,जैसे निर्भिक... Read more
हमकों नहीं घबराना होगा। हमको बढ़ते जाना होगा
हमकों नहीं घबराना होगा। नदी की बहती धारा जैसे, हमको बढ़ते जाना होगा आंधी,तूफाँ,बरसातों से भी नही हमको घबराना होगा। अटल खड़े पहाड़ो है,जैसे निर्भिक... Read more