Sep 2, 2016 · शेर
Reading time: 1 minute

शराब ,साकी और गम

साकी था खूबसूरत ।

शराब भी कमाल थी ।

और बहाने मुश्किल थे ,

खुशी से जहर पी लिया हमने ।

डुबोना चाहा था जाम में

गम -ए -बेवफाई

किस्मत को क्या कहें ?

खुद डूब गए हम । ………रवि

2 Comments · 77 Views
Copy link to share
You may also like: