.
Skip to content

शराफत जिंदगी में अब कहां है

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

कविता

February 4, 2017

दूध मे मिलता है पानी, स्कूल में अध्यापक की मनमानीl
रोज ही होते घोटाले, खबर अखबारों में आनी जानीll
चोर पुलिस सब खेल रहे हैं, जनता के अधिकारों से l
रक्षक ही भक्षक बन बैठा, शराफत जिंदगी में अब कहां हैll

डॉक्टर साहब घर पर मिलते, अस्पताल सरकारी हैl
सारे ही हैं केस रिफर के, सारी ला इलाज बीमारी है ll
किससे किसकी करो शिकायत, कौन यहां ईमानदार है l
सबकी सेट यहां कमीशन, शराफत जिंदगी में अब कहां हैll

लहंगा चोली बात दूर की , तन से गायब सारी हैl
यू कम कपड़ों में टहल रही, वह भी भारत की नारी हैll
बेटी बहू तक तो भी गनीमत ,दादी-नानी टी शर्ट जींस मेंl
ममता का आंचल ही गायब ,शराफत जिंदगी में अब कहां हैll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II तेरे बिन दुनिया ......II
तेरी याद भी न बहलाए मुझे अब l तेरे बिन दुनिया न भाए मुझे अब ll रुलाने को दुनिया ही जब मुकम्मलl तेरी याद फिर... Read more
II  तेरी याद भी.....II
तेरी याद भी न बहलाए मुझे अब l तेरे बिन दुनिया न भाए मुझे अब ll रुलाने को दुनिया ही जब मुकम्मलl तेरी याद फिर... Read more
II...मैं आईने के सामने....II
पहले मैं था,जब, रब ने मिलाया आपसे l आईना था सामने,मैं आईने के सामने ll मैं हूं जाने कहां ,होश अब तक आया नहींl मौत... Read more
सारे फरेब
बिसात है बिछी ,वह खेल रहा है l सारे फरेब दिल , झेल रहा है ll हम प्यादे वह ,बजीर बादशाह l जीत किसकी ,कोई... Read more