23.7k Members 49.9k Posts

शरद पूर्णिमा का प्रेम अमृत

पावस संग चले गए बदला, शरद ऋतु है आई
स्वच्छ हुआ है नील गगन, पूर्ण चंद्र मन भाई
शरद पूर्णिमा का प्रेमामृत, मन को रहा लुभाई
सप्त स्वरों में प्रेम की बंशी, अंतर्मन रहा बजाई
कब आओगे कृष्ण कन्हाई, मधुबन रहा बुलाई
नाच उठा है मन मयूर, पिया मिलन को हरषाई
महारास के इंतजार में, नयनन नींद चुराई
शरद चंद्र के उत्सव में, सुध बुध सब बिसराई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Like 4 Comment 2
Views 19

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Bhopal
477 Posts · 12.5k Views
मेरा परिचय ग्राम नटेरन, जिला विदिशा, अंचल मध्य प्रदेश भारतवर्ष का रहने वाला, मेरा नाम...