शब्द युग्म मुक्तक

मुक्तक

शब्द युग्म-चमक/दमक
मुक्तक
000
कहाँ लगे है चमक-दमक, तुम खुद ही हो उससे ज्यादा.
नहीं सुहाती खनक-छनक, तुम खुद ही हो उससे ज्यादा.
अर्धसदी लगभग है बीती, इक पल भी तुम बिन भारी,
पैजनियों की खटक -धमक, तुम खुद ही हो उससे ज्यादा.
000
@डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’
अधिवक्ता/साहित्यकार
सर्वाधिकार सुरक्षित

Like 2 Comment 0
Views 154

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share