"शब्द की महिमा"

शब्द की महिमा है अप्रतिम,
शब्द से ही भाष्य है।
व्यक्त करते, भाव मन का,
शब्द से ही वाक्य है।।

शब्द से बनते कथानक,
शब्द से ही काव्य है।
यदि न आए समझ, तो,
ये कवि का ही दुर्भाग्य है।।

बेध देते हृदय को,
गर्जन, सदा परिहार्य है।
हो अगर नरमी ज़रा,
मधुरिम, सुधा, पर्याय है।

शब्द यदि होते होँ बोझिल,
वार्ता बेकार है।
मौन भी रहना कभीकर,
मित्रता का सार है।

वर्जनाएं टूटतीं,
अभिसार का आग़ाज है।
कुछ न कहना अब प्रिये,
“आशा”, प्रबल उद्गार है..!

——-//——-//——–//——–//——–//——–

रचयिता-

Dr.asha kumar rastogi
M.D.(Medicine),DTCD
Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near sbi Muhamdi,dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

18 Likes · 24 Comments · 187 Views
M.D.(Medicine),DTCD Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad. Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near...
You may also like: