शब्दों को बतियाते देखा....

(गीतिका)
******************************
*
शब्दों को बतियाते देखा,
सारा जग हथियाते देखा ।
*
स्नेह सुरों की बलि दे डाली,
कर्कश बन चिचियाते देखा ।
*
खूब ठहाके भरते थे जो,
आज उन्हें खिसियाते देखा ।
*
सिंहनाद वाली गर्जन को,
पल भर में मिमियाते देखा ।
*
पहले पुचकारा जी भर कर ,
फिर सबको लतियाते देखा ।
******************************
हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ, (उ॰प्र॰)
******************************

Like Comment 0
Views 22

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share