वक़्त

वक़्त बड़ा कमज़र्फ है ।
जफ़ा भरा हर्फ़ हर्फ़ है ।
अरमान घुटे सीनों में ,
सर्द दर्द हुआ वर्फ़ है ।
.. विवेक दुबे”निश्चल”@…

Like Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing