.
Skip to content

व्याकुल इंसान

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

April 29, 2017

व्याकुल इंसान

दरखत झूमे, सरोवर तीर,
निर्झर निर्झर बहे बयार
पर्ण:समूह के स्पंदन से,
सरगम की निकले तान
शीतल प्रतिच्छाया में,
पंछी समूह करते विहार
मानुष त्रस्त अविचल,
अंत:करण धरे कष्ट अपार
वट वृक्ष शीतलता पाने को
मृगतृष्ना सा व्याकुल इंसान !!

!
!
!
डी के निवातिया

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
** इंसान हो तुम **
प्रारम्भिक बोल ********** कश्तियां यूं ही डूबती रह जायेगी होंसला है जिसके हाथ वो पार सागर कर जायेगा तर जायेगा बिन पतवार ******************** इंसान हो... Read more
हास्य -व्यंग्य कविता
हास्य -व्यंग्य कविता -------------------------- एकवार B.Ed.में हमारा भी गया टूअर, Cultural Programms में हम बड़े हो थे poor। कुछ देरबाद हमारा भी नम्बर आया ,... Read more
इंसान कहाँ इंसान रहा (विवेक बिजनोरी)
“आज सोचता हूँ कि कैसा है इंसान हुआ, इंसान कहाँ इंसान रहा अब वो तो है हैवान हुआ कभी जिसको पूजा जाता था नारी शक्ति... Read more
भगवान को किसने बनाया ?
भगवान को किसने बनाया ? *******######******** भगवान को किसने बनाया? है ना एक अजीब सा सवाल हम अक़्सर ये सोचते हैं कि सभी को भगवान... Read more