व्याकुल इंसान

व्याकुल इंसान

दरखत झूमे, सरोवर तीर,
निर्झर निर्झर बहे बयार
पर्ण:समूह के स्पंदन से,
सरगम की निकले तान
शीतल प्रतिच्छाया में,
पंछी समूह करते विहार
मानुष त्रस्त अविचल,
अंत:करण धरे कष्ट अपार
वट वृक्ष शीतलता पाने को
मृगतृष्ना सा व्याकुल इंसान !!

!
!
!
डी के निवातिया

Like Comment 0
Views 109

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing