व्यथा

सूखे पत्तोँ की तरह बिखरा हुआ था मैँ, किसी ने समेटा भी तो केवल जलाने के लिए।

1 Like · 1 Comment · 66 Views
I am a freelance writer...
You may also like: