Feb 28, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

व्यथा (कविता)

मेरे ह्रदय में उठता,
प्रेम का अथाह आवेगें।
जैसे सागर में उठती,
चंचल मदमस्त लहरें।
उठती हुई यह लहरें,
चाँद को छूने का असफल,
प्रयास करती हैं।
परन्तु फिर ना छु पाने के,
दुःख से पुन: अंतर्मन से,
विवश हो कर लौट जाती हैं।
गहन गंभीरता की चादर ओढे,
सागर में समा जाती हैं।
इस गंभीरता में छुपी है विवशता।
और इस विवशता में छुपी ही,
मेरे अंतर्मन की व्यथा।

218 Views
Copy link to share
#9 Trending Author
ओनिका सेतिया 'अनु '
ओनिका सेतिया 'अनु '
177 Posts · 15.1k Views
Follow 20 Followers
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा... View full profile
You may also like: