Skip to content

वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है — गज़ल

निर्मला कपिला

निर्मला कपिला

गज़ल/गीतिका

August 8, 2016

यशोद्धा खाने को मक्खन का प्याला छोड़ देती है
न रूठे शाम, हाथों की वो माला छोड़ देती है

छठा सावन की लाती है बहारें,झूमता गुलशन
धारा पर रूप अपना वो निराला छोड़ देती है

न माँ की ममता’ का कोई जहां में सानी ही होगा
वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है

सहो चाहे जमाने भर के ताने भी मगर फिर भी
कही अपनों की चुभती बात छाला छोड़ देती है

न माजी भूलने देता कभी दुखदर्द जीवन के
खलिश उनकी जिगर में रोज छाला छोड़ देती है

मशीयत पे यकीं रखना न अपनी छोडना नेकी
बला आये, तो हो इन्सान आला, छोड देती है

किये एहसां जताने का तरीका देख लो निर्मल
बडे आराम से खत मे हवाला छोड देती है

Share this:
Author
निर्मला कपिला
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण... Read more
Recommended for you