.
Skip to content

वो तेरी एक भूल

Dr. pragy Goel

Dr. pragy Goel

कविता

June 17, 2016

सुबह उगते हुए सूरज से मैंने पूछा
यहां जो उग रहा है तू कहीं तो ढल रहा होगा
किसी की नींद आखों से चुराने तू यहां आया
कोई तो तेरे ना होने पर सपने बुन रहा होगा
ना जाने कौनसा रस्ता जो पीछे छोड़ तू आया
ना जाने कितनी बातें अँधेरे में गुम गयी होंगी
करेगा कौन कल शिकवा तुझसे बेवक्त जाने का
तेरे लौट आने तक कितनी शमांए बुझ गयी होंगी
वो पूरी दास्तान बता अब किसको सुनायेगा
जो रस्ता देखती थी वो पलके थक गयी होंगी
वो मेरी बीते वक्त एक पल कैसै चुकाएगा
वो तेरी एक भूल किसी की आहें बन गयी होंगी

Author
Dr. pragy Goel
देह शब्द है भाव आत्मा यही समुच्चय मेरा परिचय
Recommended Posts
“माँ तू कितनी प्यारी है“
बंद किये ख्वाबो के पलके, मै तेरे जीवन में आया आँख खुली तो सबसे पहले माँ मैंने तुझको ही पाया तेरे गोद में मैंने अपना... Read more
फिर नसीब होगा
तू बडा खुश नसीब होगा वो तेरे दिल के करीब होगा जब भी होगा नाम तेरा लबों पर उस दिन तेरा नसीब होगा जिस दिन... Read more
कभी ये भी सोचो
Sonu Jain कविता Oct 27, 2017
?कभी ये भी सोचो? सड़क किनारे बैठे उस, भिखारी की भी तो सोचो,,, क्यू बैठा है वो,, मजबूर ए हालात,, कभी ये भी तो सोचो,,... Read more
ग़ज़ल।गम से तेरे अभी तक रिहा न हुआ ।
ग़ज़ल /गम से तेरे अभी तक रिहा न हुआ । दर्द दिल का वही है दवा न हुआ । ग़म से तेरे अभी तक रिहा... Read more