Skip to content

“वो चिडिया “

Brijpal Singh

Brijpal Singh

कविता

June 13, 2016

__________________________________
घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर, वो चिडिया अब मेरे आँगन में आती नहीं…
*******************************
मैने उसे याद किया नहीं पहले मगर, वो आती थी रोज़ाना जरुर !
आज अगर आवाज़ दूँ उसे चिल्लाऊँ जोरो से मगर, आती नहीं शायद गई वो अब कहीं दूर !
***********************************
घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर, वो चिडिया मेरे आँगन में आती नही…
**********************************
उसकी वो आवाज़ चहचहाने की मेरे सपनो में अब आती है कभी ,
पहले तो क्या था आ जाती थी वो रात या दिन कभी भी !
पुर्खों की तरह शायद वो अब कभी आयेगी , मगर दिल कहता है शायद कहीं तो दिख जायेगी !
————————————————–
घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर , वो चिडिया अब मेरे आँगन में आती नहीं …
********************************
क्यों हो रहे विलुप्त हर रोज़ क्या हैं ये अफ़साने,
ना कर तू उम्मीद बृज वो ज़माने थे पुराने !
जहाँ नहीं इंसा वहाँ इस पक्षी का क्या काम वर्चस्व इनका खोता रहा सदा बस बचा हुआ है नाम !
———————————————————-
घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर, वो चिडिया मेरे आँगन में आती नहीं ..

Share this:
Author
Brijpal Singh
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं जानता क्या कलम और क्या लेखन! अपितु लिखने का शौक है . शेर, कवितायें, व्यंग, ग़ज़ल,लेख,कहानी, एवं सामाजिक मुद्दों पर भी लिखता रहता हूँ तज़ुर्बा... Read more
Recommended for you